मरने के बाद क्या होता है ?(what happens after death)

मरने के बाद क्या होता है ? ये दुनिया की सबसे रोचक प्रश्नो में से एक है क्योकि मरने के बाद बाद क्या होता है ये केवल मरने वाला ही बता सकता है और विज्ञान भी अभी तक इस के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं लगा पाया है। हम सभी लोग अपनी उम्र को हरी सब्जिया खा कर और व्यायम करके बढ़ा तो सकते है पर अमर नहीं हो सकते है अर्थात कभी न मरने वाला। आज की technology की बात करे तो आखिर में कभी-न-कभी सब की मौत होनी है जिसे जीवन मिला है उसकी मौत होनी ही होनी है तो आखिर मौत के बाद क्या होता है ? मैं भौतिक शरीर (physical body) की बात नहीं कर रहा हूँ भौतिक शरीर (physical body) आखिर में  मिटी में मिल ही जाएगा। question ये है की मैं जी है इस शरीर में जिसे आप मैं कहते हो मैं यानी हमारी आत्मा (चेतना or consciousness) ये आखिर कहाँ जाती है अभी आप और हम दोनों ही जिन्दा है मतलब आप और हम दोनों इस टाइम feel कर पा रहे है की आप और हम जिन्दा है या आप हो इस को consciousness कहते है। तो सवाल ये है की जब हम और आप मरते है तो क्या मरने के बाद भी ये feel करते हो या आप और हम पूरी तरह से zero हो जाते है। 


                                      चलिये एक experiment करते है आप एक बार सोचिये की मरने के बाद आखिर कैसा लगता होगा तो आपको ऐसा लगेगा की आप ये सोच ही नहीं पा रहे हो और आप अपने आपको न होने को कभी सोच ही नहीं सकते हो ये impossible है और ये एक amazing fact भी है क्योकि हमारा मन और दिमाग ये मने को तैयार ही नहीं होगा की आप नहीं हो आपको ये feel ही नहीं होगा की आप हो ही नहीं क्योकि नहीं होने को भी experience करने के लिए किसी चीज़ का का होना बहुत जरूरी है जो नहीं होने को experience कर रहा है इसका मतलब शायद मरने मरने के बाद आप अपने आप को feel नहीं कर पाओगे। 

                                      इस दुनिया में 4200 religion है और सब की अपनी अलग-अलग मान्यता है की मरने के बाद क्या होता है लेकिन इस पूरी दुनिया में केवल एक ही ग्रुप है जो असल में जानता है की आखिर मरने के बाद क्या होता है। मैं यहाँ पर किसी भी religion की बात नहीं करने वाला हूँ और न ही किसी religion से इसको जोड़ने वाला हूँ। मैं अच्छे से जानता हूँ की फिर ऐसे कैसे कोई बता सकता है की मरने के बाद क्या होता है आप लोग ये जरूर सोच रहे होंगे या सोचने लग गए होंगे तो आप जान तो की वो ग्रुप है मरे हुये लोग तो चलये मरे हुये ही लोगो से जानते है की आखिर में मरने के बाद क्या होता है और वो लोग क्या feel करते है। tension लेने वाली बात नहीं है और ये कोई मजाक की भी बात नहीं है मुझे पता है की मेरी बात इस टाइम आप लोगो को एकदम मजाक लग रही होगी या आप लोग सोच रहे होंगे की ये पागल हो गया है लेकिन इस earth पर ऐसा एक ग्रुप है। तो ध्यान से मेरी बातो को पढ़ये, ऐसे बहुत से लोग है इस दुनिया में जो दावा करते है की वो लोग मर के भी वापस से जिन्दा हुये है जी है। मुझे पता है की आप लोगो को मेरी बातो पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं हो रहा होगा लेकिन ये बात एकदम सत्य है और इसको modern भाषा में NDE कहते है यानि NEAR DEATH EXPERIENCE आप लोगो ने भी ऐसी घटनाओ के बारे में कभी न कभी जरूर से सुना होगा खास करके INDIA के गावो में तो ऐसी घटनाये बहुत ही कॉमन है पर अगर world की population को as a whole देखे तो पूरी population में बहुत कम ही लोगो ने इसे experience किया है जिन लोगो को ये हुआ है उन लोगो में से अलग-अलग व्यक्ति अलग-अलग चीजों को experience करता है उन लोगो का ये कहना है की वो एक दूसरी दुनिया में चले जाते है एक दूसरे आयाम में और कुछ अजीब तरह का experience करते है और फिर वापस अपने शरीर में आ जाते है तो आखिर में वो क्या experience करते है ये ही तो हम लोग जाना चाहते है क्या वो सच में उस चीज का experience करते है जो सच में इस दुनिया के परे है।  


                                        2001 में एक इंसान की heart सर्जरी हो रही थी और वो सर्जरी fail हो गयी थी। डॉक्टर ने कहा की वो इंसान मर चूका है मतलब डॉक्टर ने उस इंसान को मृत घोषित कर दिया पर कुछ मिनट बाद monitor में अपने आप कुछ activity होनी लगी और आखिर में डॉक्टर ने उस इंसान को बचा लिया जो वो कुछ मिनट वो अपने शरीर में नहीं था तब उसकी सांसे रुक गयी थी तब उसने कुछ experience किया था। इन्होने उस experience को कुछ ऐसे express किया - "उन्होंने कहा की वो emptiness यानि कुछ नहीं होने को experience कर रहे थे मतलब उनको ऐसा तो नहीं लग रहा था की वो तैर रहे है पर वो just थे वो अपनी present को feel कर पा रहे थे। 

   
                                        अब मै आप को एक दूसरे case के बारे में बताने जा रहा हूँ ये case है एक collage student का जो sleeping peels की overdose के चलते गिर पड़ा। पड़ोसियों ने एक ambulance बुलाया पर जब ambulance उसे hospital ले जा रही थी उसी दौरान उसकी मौत हो गयी थी। अब इसे आप कोई चमत्कार कहिये या फिर उसका luck या फिर कुछ और कुछ 3 मिनट बाद उसको होश आया और उसने उस 3 मिनट में क्या experience किया था उसे उस लड़के ने बताया। उसने ये कहा की वो अपने शरीर से निकल चूका था और वो अपने शरीर को ambulance में देख रहा था जी हाँ वो अपने ही शरीर को देख रहा था मतलब उसकी आत्मा उसके शरीर से निकल कर अपने ही शरीर को देख रही थी कितना अजीब लगता है लगता है ये पढ़ने में या सुने में पर क्या जो उस लड़के ने उस चीज़ को experience किया था वो उसकी आत्मा थी या उसका कोई भ्र्म इस बात को test करने के लिए उस लड़के से पूछा उस एम्बुलेंस में डॉक्टर ने क्या-क्या किया था उस लड़के ने एक-एक words को recall कर दिया और उस लड़के ने उस 3 मिनट के दौरान ambulance किस-किस मोड़ से गुजर रही थी उसे सब याद था इस का मतलब वो सब सच था। 


                                  ऐसी ही experiences को हजारो नहीं बल्कि लाखो लोगो ने experience किया है और अलग-अलग case में अलग-अलग चीज़ो को experience करता है। researchers ने उन experience को एक साथ रखा जो ज्यादा तर सब को होता है सबसे common experience जो होता है वो है एक tunnel का experience मतलब लोगो को लगता है की वो सुरंग से गुजर रहे है और कई लोगो को out of body experience होता है जिसमे वो अपने ही शरीर को एक दुरी से देखते है जो उस ambulance वाले लड़के ने experience किया था। मरने के बाद जो ये experience होती है जो उन लोगो ने जो कहा वो बहुत अजीब होती है मतलब आप और हम सोच भी नहीं सकते है की वो seen कैसी होती है। जिन्दा state में जो आप सोच सकते हो वो उसके परे है इसलिए वो लोग सही से define भी नहीं कर पाते है वो सच में अपने शब्दों में बया कर पाना बहुत ही मुश्किल है। वो उस लकीर को experience करते है जो जिंदगी और मौत को अलग करती है। ज्यादा तर लोगो को out of body experience होता है जिसके बारे में आपने अभी पढ़ा तो कइयों को darkness का experience होता यानि nothingness उस darkness में कुछ feel ही नहीं होता है पर वो खुद होते है मतलब उनके लिए दुनिया नहीं होती है पर वो खुद होते है कुछ नहीं होने पर भी वो खुद exist कर रहे होते है की मैं मैं वाली feeling होती है। क्या आप समय को छू सकते हो जिन लोगो ने NEAR DEATH EXPERIENCE किया है उसमे से कई लोगो ने कहा की उस समय वो समय को देख सकते है उनके कहने का मतलब है की समय को एक physical object की तरह देख सकते है। मैं जानता हूँ की आप लोगो को बहुत सी बाते थोड़ी नहीं बल्कि बहुत ही ज्यादा अजीब लग रहा होगा लेकिन सचाई यही है की ये सब अजीबो-गरीब logic हमारे परे है सबसे main understanding ये है समझो उस ambulance वाले लड़के ने जो experience किया या फिर उस सर्जरी वाले आदमी ने जो experience किया वो एक अजीब experience था।                          


                                             okay उन्होंने ये कहां की वो एक empty world space, कुछ नहीं(nothingness) ऐसे एक चीज़ो को experience करते है। चाहे वो कुछ भी experience करे लेकिन वो वहां पर होते है तभी न experience करते है। अगर आप इसे deeply सोचो तो। मरने के बाद भले ही आपका शरीर मिटी में मिल जाये लेकिन ये मै वाली feeling रहती है main fact ये ही है हमारा शरीर मर जाता है पर मै की feeling ये consonances नहीं मरती है इन लोगो पर ही ये fact बने है सच्चाई तो कोई नहीं जानता है पर ये fact तो ये ही कहते है की हमारी feeling जो है न वो कभी नहीं मरती है consonances केवल शरीर बदलती है या फिर अलग जन्म होता है पर अलग जन्म एक अलग topic है इसके बारे में आपको अलग post में जरूर बताऊंगा।